हर भारतीय को ये सुधार की आवश्यकता तभी होगा भारत विकसित | ट्रेंडिंग ज्ञान

 हर भारतीय को ये सुधार की आवश्यकता तभी होगा भारत विकसित

भारत को अगर विकसित होना है तो हर भारतीय को सोच समझ कर अपने शक्तियों का प्रयोग करना ही पड़ेगा।

हर देश की एक ना एक अलग पहचान होती है। जिसके बलबूते एक देश अन्य देशों से अलग माना जाता है आज हम बात करेंगे अपने देश भारत की।


भारत की उन विशेषताओं के बारे में जिसके बदौलत यह देश आज दुनिया भर में प्रसिद्ध है।


भारत में विभिन्न संस्कृति के लोग पाए जाते हैं जिनका मकसद सिर्फ और सिर्फ दूसरे को आदर सम्मान करना ही नहीं बल्कि उनकी हर मुश्किलों में हर तकलीफ में साथ देना भी होता है।


भारत कहें हिंदुस्तान कहें या इंडिया आखिर यह देश महान क्यों है? भारत का जनसंख्या लगभग 1.3 बिलियन है जिसके कारण यह जनसंख्या के हिसाब से दूसरे नंबर का देश है।


भारत में गरीब भूखे बच्चे
भारत की गरीबी


लेकिन गरीबी इस देश की गंभीर समस्या है। यहां का सिस्टम, यहां का पॉलिटिकल इशू, नेपोटिज्म, वूमेन एंपावरमेंट, लैक ऑफ़ एजुकेशन, डिमॉनेटाइजेशन और न जाने क्या क्या...! जो इस देश को दूसरे देशों से अलग करके रख देता है।


आज मै इन दो सवालों का विस्लेषण करूंगा:

  • भारत विदेशों में क्यों प्रसिद्ध है?
  • क्यूं भारत कुछ देशों में बदनाम है?

अगर आप भारतीय हैं तो ऊपर मौजूद दोनों सवालों का जवाब जानना आपके लिए बेहद जरूरी हो जाता है। एक भारतीय होने के नाते हमारा यह कर्तव्य बनता है कि हम अपने देश की महानता कि गुण गान करें तथा अपने देश के गंभीर समस्या की जांच पड़ताल कर इसको और महान बनाए।


भारत की प्रमुख विशेषताएं

भारत की मुख्य विशेषताएं जिसे जाने के बाद आपको भारतीय होने पर गर्व होगा। चलिए बताते हैं। भारत के लोगों के दिलों में भारत के लिए हमेशा ही श्रद्धा बना रहता है, वे कपड़े ब्रांडेड पहने या ना पहने लेकिन उनकी सोच ब्रांडेड होती है। हर भारतीय के खून में देश का नमक जरुर होता है। अब ये अलग बात है कि उनके टूथपेस्ट में नमक रहे या ना रहे कोई फ़र्क नहीं पड़ता यह भारत गावों का देश है यहां दातून ही चलता है।


विदेशी लोगों को प्यार करती भारत की महिलाएं
भारत में संस्कार । विदेशी का सम्मान


घर में पानी भले ही थोड़े देर बाद आए लेकिन चांद पर पानी का खोज सबसे पहले भारत के चंद्रयान-1 सेटेलाइट ने ही डिटेक्ट किया था। इस देश के लोगों ने आज जो भी मुकाम हासिल किया है सब अपने ही दम पर किया है। और शायद यही कारण है कि यह हमारा हिंदुस्तान पूरे दुनिया का सर्वश्रेष्ठ देश है। यहां के लोग पूरी शिद्दत से दिलों जान लगा कर काम करते है।


बात हम खेलों कि करे तो भारत में खिलाड़ियों की कमी कभी नहीं हुई। इंडिया में खेल सिर्फ खेल नहीं होता जुनून होता है, पागलपन होता है, खेलों के वर्ल्ड रिकॉर्ड तो यहां है ही और इन खेलों के एक मेजर और भगवान भी यही के हैं। जी हां, वही मेजर ध्यानचंद और सचिन तेंदुलकर जिन्होंने भारत को अपनी मेहनत से नवाजा है। साथ ही कबड्डी, स्नूकर, शतरंज, और हर घरों में खेले जाने वाला लूडो और सांप सीढ़ी जैसे खेलों का जन्म भी भारत में ही हुआ है


भारत की खेतों में काम करती महिलाएं
भारत की मेहनती महिलाएं


भारत को अगर पर्व और त्योहारों का देश कहा जाए तो गलत नहीं होगा क्यंकि जीतने फेस्टिवल इस देश में मनाए जाते है वह शायद ही किसी और देश में मनाए जाते होंगे। अगर मनाए भी जाते होंगे तो हम यह कह सकते है कि उन्होंने हमारे देश से ही सीखा है। हमारी संस्कृति काफी पुरानी है और काफी निर्मल है। जिसने अनेक धर्मों को एक धागे में पिरोया है। हर कोई भारत को विविधता में एकता वाले देश के रूप में जानता है और इन्हीं कारणों से भारत विदेशों में प्रसिद्ध है। हमें इस देश का नागरिक होने पर गर्व है।


आप भारत के लिए कुछ कहना हो तो आप क्या कहना चाहेंगे? नीचे कमेंट में हमारे साथ जरुर शेयर करें।


भारत की खामिया


जैसा कि आपको पता है कि जिसमे गुण होता है उसमे अवगुण भी अवश्य होता है। ठीक वैसे ही आपको पता होना चाहिए कि भारत में बहुत सारी बदलाव कि जरूरत है। भारत को कभी सोने की चिड़िया कहा जाता था आज चिड़िया को भी सोने को नहीं मिलता। जिस भारत में हर जगह हरियाली और खुशहाली नजर आती थी आज उसी भारत में गरीब और बेरोजगार नजर आते हैं।


भारत में गरीब
भारतीय गरीब महिला


माना कि जो लोग बेरोजगार है शायद उन्होंने पढ़ाई ठीक से नहीं की होगी लेकिन क्या उन्हें ठीक से पढ़ाई करने का साधन मिल पाया था? मै पढ़े लिखे बेरोजगार की बात कर रहा हूं। जिन्होंने पढ़ाई तो पूरी कर रखी है लेकिन ऐसे कॉलेजों से जहां पढ़ना और ना पढ़ना बराबर है। आपको पता है भारत में ऐसे के वरिष्ठ लोग है जो अपने बच्चे को भारत में नहीं पढ़ाते। यहां की शिक्षा शैली बाहर की देशों जैसी नहीं है। इसके पीछे कहीं न कहीं हमारी लापरवाही है।

ये पढ़ें | 2020 New Education Policy of India

हमारे भारत को समृद्ध बनाने के लिए इस देश की उन्नति के लिए हमने नेता बना रखे हैं। जिसे हम अक्सर हर 5 साल पर वोट दे कर उनके हाथों में अपना देश शौप देते है। और यह सोचते है कि हमारे नेता जी हमारे लिए जो करेंगे वो अच्छा ही करेंगे। लेकिन हमरे प्रतिनिधि गण करते क्या हैं वहीं छोटी छोटी चीजे जो हमे चुनाव आने से कुछ दिन पहले देखने को मिलती है।

क्या अपने यह नोटिस किया है? अगर हां तो कमेंट जरुर कीजिएगा। और इसे शेयर भी ताकि लोगों को असल बात पता लग सके।


Vote देने वलों के बच्चे और वोट लेने वालों के बच्चे
वोट लेने वालों के बच्चे vs वोट देने वालों के बच्चे
Image Source: Internet


पता है एक विदेशी ने भारत आने से पहले क्या क्या सोचा? मै सिर्फ एक यही दिखाना चाहूंगा "I thought I was more educated and well-read than Indian" मतलब "मुझे लगा कि मैं भारतीय से अधिक शिक्षित और पढ़ा लिखा हूँ" इससे साफ स्पष्ट होता है कि हमारी एजुकेशन सिस्टम ठीक से काम नहीं करती। जिसके कारण दूसरे देश के लोग ऐसा सोचते हैं। इसके जिम्मेवार सिर्फ हम है। क्यूंकि हमने ही अशिक्षित नेताओ को वोट दिया है, हमने ही उनके हाथ में अपने देश को शौपा है। अजीब है! जब वो ही शिक्षित नहीं हैं तो वो शिक्षा के तरफ पूर्ण निष्ठा से विकाश कैसे करेंगे? कैसे हमारे देश में शिक्षित नौजवान बेरो़जगरी से छुटकारा पाएंगे?

ये पढ़ें | भारत की शिक्षा प्रणाली क्यू बेकार है

यदि कोई भारत का इतिहास पढ़े, फिर उन्हें पता लगेगा कि भारत एक खूबसूरत जगह है, जिसमें मिश्रित संस्कृति और भावनात्मक लोग हैं। वे यहां के महान राजाओं और स्वतंत्रता सेनानियों के बारे में जान सकेंगे। वे सोचेंगे कि भारत महान नेताओं, वैज्ञानिकों और गुरुओं का देश है।


सारांश


Election in India | Vote for good Democracy
Image Credit: BCCL Source: Internet


कुल मिला जुला कर कहा जाए तो भारत एक गौरवशाली देश रहा है और रहेगा। भारत को समृद्ध बनती है यहां के गांव, यहां के किसान, यहां के मजदूर, यहां के शिक्षक, यहां के युवा, यहां की संस्कृति और परंपरा। हम भारत को बहुत सुंदर और सुरक्षित तभी बना पाएंगे जब हमारे प्रतिनिधि हमारी तकलीफ और समस्या को समझे उसे सरकार तक पहुंचाए और जल्द से जल्द उसका हल करे। ये सब मुमकिन तभी हो सकता है जब हमारा वोट एक अच्छे नेता को मिले जो हमारी हर संभव मदद करे ना कि शक्ति का प्रयोग करे। और भ्रष्ट्राचार को बढ़ावा दे। मै आशा करता हूं मेरी बातें आपको समझ आई होगी तथा मै एक भारतीय होने के नाते यही कहना चाहूंगा कि आप अपने आस पास के जगहों को और तौर तरीकों को अन्य देशों से जरुर तुलना करें। TV पर देखे हुए हर बात को पहले परखें तभी स्वीकार करें।


आपको यह लेख अच्छी लगी हो तो जरुर शेयर करें ताकि यह ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचे। शेयर करें और जागरूकता फैलाएं।


Post a Comment

0 Comments